loading...
loading...

मेरी माँ की सामूहिक चुदाई

सामूहिक चुदाई, माँ की चुदाई xxx hindi sex story, ग्रुप सेक्स कहानी, sex kahani, बहन भाई की सेक्स स्टोरी, hindi xxx story, माँ बेटे की सेक्स स्टोरी, बाप बेटी की सेक्स स्टोरी, antarvasna ki hindi sex stories, छात्र शिक्षक की सेक्स स्टोरी, माँ की चुदाई, बहन की चुदाई, दीदी की चुदाई, भाभी की चुदाई, चाची की चुदाई, शिक्षक की चुदाई, देवर भाभी की चुदाई, माँ बेटे की चुदाई, भाई बहन की चुदाई, बाप बेटी की चुदाई, बेटी की चुदाई, हिंदी XXX सेक्स कहानी, अचल हिंदी सेक्स कहानियाँ, सच हिन्दी सेक्स कहानी, गर्म सेक्स कहानी हिन्दी, हिंदी सेक्स स्टोरी

मेरी माँ की उम्र करीब 32 साल थी, उस समय मेरी माँ की जवानी अपने पूरे ज़ोर पर थी और वो दिखने में बहुत सुंदर और उनका गोरा रंग और उनके गदराए बदन की बनावट हर किसी को एक बार देखने से ही अपनी तरफ आकर्षित करती और जब वो मेक्सी को पहनकर घर में अपने काम किया करती तो उनके बड़े आकार के लटकते हुए गोरे गोरे बूब्स उनकी उस मेक्सी से बाहर आने को बेताब रहते थे और उनके कूल्हे भी बहुत भारी थे, जिनकी वजह से वो बहुत ही हॉट सेक्सी दिखती और मेरे पापा के दोस्त जब भी हमारे घर पर आते थे तो वो भी मेरी माँ के गांड को अपनी प्यासी नजर से घूरते रहते थे।दोस्तों उन दिनों की बात है, जब मेरे स्कूल में गर्मियों की छुट्टियाँ चल रही थी और मेरे पापा उनके ऑफिस के किसी काम से कुछ दिनों के लिए बाहर गये हुए थे। उस वजह से अब घर में हम दोनों ही थे और उसी सुबह मेरे पशुराम अंकल हमसे मिलने हमारे घर पर आ गए, वैसे तो वो हमसे मिलने हर कभी आते थे, लेकिन इस बार वो बहुत दिनों के बाद हमारे घर पर आये थे।
अब उनको देखकर मेरी माँ बहुत खुश हो गई और उनकी वो ख़ुशी में मुझे उनके खिलते हुए चेहरे से साफ साफ पता चल रहा था और में उनके चेहरे की उस हंसी को देखकर तुरंत समझ गया था कि आज मेरी माँ मेरे अंकल से जरुर अपनी चुदाई करवाएगी, इसलिए वो खुश थी। अब में ड्रॉयिंगरूम में बैठकर टी.वी. देख रहा था, वहीं दीवार पर एक बड़ा सा कांच लगा हुआ था, जिससे में एक जगह पर बैठा हुआ ही पूरी किचन को साफ साफ देख सकता था।माँ मेरे अंकल को देखकर उनसे बोली कि में आपके लिए चाय बनाकर अभी लेकर आती हूँ। तभी मेरे अंकल उनसे कहने लगी कि चलो भाभी में भी आपकी कुछ मदद कर देता हूँ और वो यह बात कहकर मेरी माँ के पीछे पीछे किचन में चले गये और में उस कांच से सब कुछ देख रहा था और फिर मैंने देखा कि वो मेरी माँ के पास में खड़े होकर माँ के गांड पर अपने हाथ को फेर रहे थे और माँ चाय बनाते हुए उनकी तरफ देखकर बार बार मुस्कुरा रही थी।ये चुदाई कहानी आप,इंडियन क्सक्सक्स सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।तभी कुछ देर बाद अंकल ने उनके गांड को थोड़ा ज़ोर से भींच दिया और उन्होंने उसी के साथ तुरंत माँ के गाल पर एक किस भी कर दिया। अब माँ ने बाहर मेरी तरफ देखा और देखकर उन्होंने समझा कि में तो टी.वी. देख रहा हूँ, इसलिए उन्होंने भी अंकल के लंड को उनकी पेंट के ऊपर से ही ज़ोर से दबाते हुए रगड़ दिया और तब तक उनकी चाय भी तैयार हो गयी थी, इसलिए वो दोनों ड्रॉयिंग रूम में चाय लेकर आ गये। अब वो दोनों वहीं पर मेरे सामने बैठकर चाय पी रहे थे और साथ में बहुत हंस हंसकर बातें भी कर रहे थे। दोस्तों आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है।ये चुदाई कहानी आप,इंडियन क्सक्सक्स सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर माँ मेरे अंकल से कहने लगी कि पशुराम मेरी कमर में पिछले कई दिन से पता नहीं क्यों थोड़ा सा दर्द हो रहा है? तो अंकल ने उनकी तरफ मुस्कुराकर कहा कि कोई बात नहीं है भाभी, में अभी आपकी कमर पर तेल की मालिश कर देता हूँ, वो सब एकदम ठीक हो जाएगा। उसके बाद वो दोनों तुरंत अपनी अपनी चाय को जल्दी से खत्म करके बैठ गए और माँ उठकर तेल की बोतल ले आई और वो उनसे कहने लगी कि पशुराम हम मालिश बेडरूम में चलकर करते है और वो मुझसे बोली कि कपिल बेटा तुम हमें बिल्कुल भी परेशान मत करना।फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है माँ, वैसे भी मुझे टी.वी. देखनी है और फिर में मन ही मन सोचने लगी कि अब माँ अंदर जाकर अंकल से अपनी बुर की मालिश करवाएगी और उन दोनों ने बेडरूम में जाकर तुरंत दरवाजे को बंद कर लिया और फिर मैंने कुछ देर बाद उठकर दरवाजे के चाबी वाले छेद से अंदर झांककर देखा तो मैंने पाया कि वो दोनों एक दूसरे से लिपटकर बाहों में खड़े है और अंकल अपने दोनों हाथों से माँ के गांड को दबा रहे है और माँ के नरम गुलाबी होंठो पर उनके होंठ है। कुछ देर तक अंकल ने माँ के होंठो के रस को पिया। दोस्तों ये कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट पर पड़ रहे है।ये चुदाई कहानी आप,इंडियन क्सक्सक्स सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।अब वो दोनों अलग हुए और उन दोनों ने तुरंत अपने सारे कपड़े उतार दिए, जिसकी वजह से अब वो दोनों बिल्कुल नंगे एक दूसरे के सामने खड़े हुए थे। अब अंकल कहने लगे कि वाह भाभी तेरे यह बूब्स तो पहले से भी ज्यादा मोटे, मजेदार हो गए है और यह बात कहकर वो माँ के बूब्स के निप्पल को अपने मुहं में लेकर चूसने लगे और माँ उनके सर पर अपना एक हाथ फेर रही थी।अब मेरी माँ बोली कि पशुराम ज़रा तुम अब मेरी बुर में ऊँगली भी डालो और अंकल ने माँ के मुहं से यह बात सुनकर उसी समय उनके बूब्स को चूसते हुए अपने एक हाथ की दो उँगलियाँ उन्होंने मेरी माँ की बुर के अंदर डालकर अपने हाथ को हिलाने लगे और आगे पीछे करने लगे। अब उसकी वजह से माँ की सिसकियाँ बंद हो गयी और वो उसका मज़ा लेने लगी।कैसी लगी मेरी माँ की चुदाई , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी माँ की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे ऐड करो Facebook.com/lund ki pyasi mummy

1 comments:

loading...
loading...

Indian sex story,bhai behan ki sex,baap beti ki sex,devar bhabhi ki xxx,सेक्स कहानी

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter